आजम खान से बिना मुलाकात के वापस लौटे सपा नेता, अखिलेश यादव बोले मुझे नहीं पता कौन गया मिलने

0
86

समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव  (Samajwadi Party) ने पहली बार आजम खान (Azam Khan) विवाद पर अपना रुख स्पष्ट किया है। आजम खान विवाद पर समाजवादी पार्टी का रुख स्पष्ट करते हुए कहा की समाजवादी पार्टी अहम खान के साथ है। वहीं, सपा प्रतिनिधिमंडल के आजम से सीतापुर में मुलाकात न होने पर अखिलेश ने कहा कि मुझे इस संबंध में कोई जानकारी नहीं है।

खिलेश यादव से जब आजम खान को लेकर सवाल किया गया तो उन्होंने कहा कि समाजवादी पार्टी उनके साथ है। अखिलेश यादव से जब सवाल किया गया कि क्या वे आजम खान की जमानत कराएँगे इस सवाल का जवाब देते हुए अखिलेश यादव ने कहा कि यह क़ानूनी प्रक्रिया है। समाजवादी पार्टी लीगली उनकी मदद करेगी। उन्होंने कहा कि आजम खान के साथ जो अन्याय हुआ है वो भारतीय जनता पार्टी ने किया है। उन्होंने कहा कि भारतीय जनता पार्टी जानबूझ कर ऐसे अधिकारीयों को लेकर के गयी जिससे उनके ऊपर अन्याय हो सके झूंठे मुकदमे लग सकें।

बता दें रविवार को अखिलेश यादव लखनऊ के गोसाईगंज इलाके में महिला उपनिरीक्षक रश्मि यादव के परिजनों से मिलने के लिए गए थे। अमेठी जिले के थाना मोहनगंज में तैनात दरोगा रश्मि यादव का शव शुक्रवार को फांसी के फंदे से लटका मिला था।

आजम से नहीं मिल पाया सपा का प्रतिनिधि मंडल  

रविवार को समाजवादी पार्टी के नेता रविदास मेहरोत्रा की अध्यक्षता में सपा का एक प्रतिनिधि मंडल आजम खान से मिलने सीतापुर जेल पहुंचा। आजम खान से मिलने पहुंचे सपा नेताओं को बिना मुलाकात के ही वापस लौटना पड़ा। सीतापुर जेल प्रशासन ने आजम खान की बीमारी का हवाला देकर उनकी मुलाकात नहीं होने दी। जबकि कुछ मीडिया रिपोर्टस की माने तो समाजवादी पार्टी से नाराजगी के चलते आजम खान ने खुद ही प्रतिनिधिमंडल से मिलने से इंकार कर दिया। वहीं अखिलेश यादव से इस सम्बन्ध में सवाल किया गया तो उन्होंने कहा कि उन्हें कोई जानकारी नहीं कि आजम खान से कौन मिलने गया।

वहीं शनिवार को सपा से नाराज चल रहे शिवपाल सिंह यादव आजम खां से मुलाकात करने के लिए जेल पहुंचे थे। मुलाकात के बाद उन्होंने कहा था कि अखिलेश यादव आजम की जमानत के लिए कोशिश नहीं कर रहे हैं। यदि समाजवादी पार्टी संरक्षक मुलायम सिंह यादव प्रदर्शन करते तो अवश्य आजम को जमानत मिल जाती पर इसके लिए कोशिश नहीं की गई। जिसके बाद इस मुद्दे पर राजनीति छिड़ गयी है।


Leave a Reply