मैकडॉनल्ड्स में काम करने वाली लड़की कैसे बनी अभिनेत्री से केंद्रीय मंत्री, जानिए पूरा राजनीतिक सफर

0
113
smriti irani biography

देश की महिला राजनीतिज्ञों में शुमार स्मृति ईरानी किसी पहचान की मोहताज नहीं हैं। स्मृति ईरानी ने टेलीविजन अभिनेत्री, मॉडल से लेकर भारतीय भारतीय राजनेता तक का सफर तय किया है। वर्तमान ने स्मृति ईरानी भारतीय जनता पार्टी के स्टार नेताओं में गिनी जाती हैं। वर्तमान में स्मृति ईरानी केंद्रीय महिला एवं बाल विकास मंत्री के पद पर हैं। इस लेख में हम स्मृति ईरानी के शुरूआती जीवन से लेकर राजनीतिक सफर के बारे में जानेंगे।

कौन हैं स्मृति ईरानी 

स्मृति ईरानी का जन्म 23 मार्च 1976 को राजधानी दिल्ली में हुआ था। इनके पिता का नाम अजय कुमार मल्होत्रा व  माता का नाम शिबानी बगची है। स्मृति ईरानी के पिता पंजाबी परिवार से ताल्लुक रखते हैं जबकि माता बंगाली हैं। स्मृति ईरानी तीन बहनों में सबसे बड़ी हैं। परिवार की आर्थिक मदद करने के लिए स्मृति ने 10वीं कक्षा से ही काम करना आरम्भ कर दिया था। वह सौंदर्य उत्पादों का प्रचार करती थीं और उन्हें इसके बदले दिन में 200 रुपए मिलते थे। स्मृति ईरानी की शुरुआती शिक्षा होली चाइल्ड ऑक्सिलियम स्कूल, नई दिल्ली से हुई थी, उसके बाद इन्होंने दिल्ली विश्वविद्यालय से कला में स्नातक किया। फिर यह टीवी की दुनिया में चली गयी उसके बाद इन्होंने राजनीति में कदम रख दिया।

2001 में, स्मृति ने जुबिन ईरानी नाम के एक पारसी उद्यमी से शादी की। इस दंपति के दो बच्चे हैं – एक बेटा ज़ोहरा जो अक्टूबर 2001 में पैदा हुआ था। दो साल बाद, इस जोड़े को एक बेटी हुई, जिसे ज़ोइश नाम दिया गया।

स्मृति ईरानी के संघर्ष के दिन 

स्मृति सौंदर्य के प्रोडक्ट्स का प्रचार कर अपने मां-पिता की मदद करती थीं लेकिन उनकी किस्मत ने कुछ और ही लिखा था। स्मृति ईरानी को ग्लैमर की दुनिया ने आकर्षित किया तो उन्होंने 1998 की मिस इण्डिया की प्रतियोगिता में हिस्सा लिया हालांकि स्मृति इस प्रतियोगिता के फाइनल में नहीं पहुँच पायी थीं। इसके बाद स्मृति ईरानी ने मुंबई की दुनिया का रुख किया। आर्थिक कमजोरी के चलते स्मृति ईरानी ने खुद को आर्थिक सपोर्ट देने के लिए मैकडॉनल्ड्स में काम किया। इस बीच, उन्होंने मनोरंजन उद्योग में ऑडिशन देना शुरू कर दिया।

टीवी की दुनिया में स्मृति ईरानी

 स्मृति ईरानी ने मुंबई पहुँच कर कई टीवी शो के लिए ऑडिशन दिए लेकिन स्मृति ईरानी की किस्मत तब चमकी जब  उन्हें’ऊह ला ला ला’ के एक एपिसोड की मेजबानी करने का मौका मिल गया।  स्मृति ईरानी ने शो की होस्ट के रूप में प्रसिद्ध अभिनेत्री नीलम कोठारी का स्थान लिया था। इस मौके के बाद से स्मृति ईरानी की किस्मत बदली और फिर उन्होंने कभी पीछे मुड़कर नहीं देखा। इसी शो में  स्मृति ईरानी पर प्रसिद्ध निर्माता एकता कपूर की नजर पड़ी। एकता कपूर ने  स्टार प्लस पर प्रसारित ‘क्योंकि सास भी कभी बहू थी नामक सुपरहिट टीवी सीरियल में स्मृति ईरानी को तुलसी विरानी का किरदार निभाने का मौका दिया। इस टीवी सीरियल में काम करने के बाद टीवी की दुनिया में उनकी लोकप्रियता बढ़ती गयी। उन्होंने धारावाहिक में तुलसी के चरित्र के लिए कई पुरस्कार जीते। स्मृति ईरानी ने बंगाली फिल्म में भी काम किया। अंडर-प्रोडक्शन फिल्म ‘ऑल इज वेल’ ने बॉलीवुड में अपनी शुरुआत दर्ज की।

स्मृति ईरानी का राजनीतिक सफर 

स्मृति ईरानी ने टीवी की दुनिया के बाद राजनीतिक दुनिया में कदम में रखा। स्मृति ईरानी ने 2003 में भारतीय जनता पार्टी की सदस्यता ग्रहण की। उन्हें महाराष्ट्र यूथ विंग के उपाध्यक्ष के रूप में नियुक्त किया गया। स्मृति ईरानी ने साल 2004 के आम चुनावों में चांदनी चौक निर्वाचन क्षेत्र से कपिल सिब्बल के खिलाफ भाजपा उम्मीदवार के रूप में चुनाव लड़ा। हालांकि वह चुनाव हार गईं।इसके बाद उनका कद पार्टी में और बढ़ गया। स्मृति ईरानी राजनीती में लगातार सफलता की सीढ़ी चढ़ती रहीं। साल 2010 में स्मृति ईरानी भारतीय जनता पार्टी की राष्ट्रीय सचिव और पार्टी की महिला शाखा की अध्यक्ष बनीं।

2014 के लोकसभा चुनाव में स्मृति ईरानी ने बीजेपी के टिकट पर उत्तर प्रदेश की अमेठी लोकसभा सीट पर  उस समय के कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गाँधी के खिलाफ चुनाव लड़ा। हालाँकि स्मृति  ईरानी इस चुनाव में मामूली अंतर से हार गयीं। 2014 में जब मोदी सरकार का गठन हुआ तब स्मृति ईरानी को केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री बनाया गया। इसके बाद जब मंत्रिमंडल विस्तार और फेरबदल में, स्मृति ईरानी को कपड़ा मंत्रालय में स्थानांतरित कर दिया गया।

2019 के लोकसभा चुनाव में एक बार फिर स्मृति ईरानी ने अमेठी सीट से राहुल गाँधी के खिलाफ चुनाव लड़ा और इस बार उन्होंने राहुल गाँधी को मात दे दी। वर्तमान में स्मृति ईरानी मोदी सरकार में केंद्रीय महिला एवं बाल विकास मंत्री हैं।


Leave a Reply