Home अंदर की बात मुलायम से भी 'मुलायम' हैं अखिलेश यादव

मुलायम से भी ‘मुलायम’ हैं अखिलेश यादव


  • आजमगढ़ के सांसद अखिलेश यादव कभी भी विधान सभा का चुनाव नहीं लड़े
  • सपा की सरकार बनी और मुखिया अखिलेश यादव बने

संतोष कुमार पाण्डेय | सम्पादक की रिपोर्ट

सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव (AKHILESH SINGH YADAV)  का एक जुलाई को जन्मदिन है. और चर्चा है कि इस बार कैसे जन्मदिन मनाया जाएगा ? क्योंकि कोरोना का संकट है. वैसे अखिलेश यादव इतने मुलायम है कि उन्हें बस दिल की बात समझ आती है. शायद ही उन्होंने राजनीति में भी दिल की सुनी है. जब 2016 में सपा में घमासान चला तो उस समय भी सबकी नजरें अखिलेश की तरफ थीं न की शिवपाल और मुलायम की तरफ. अखिलेश यादव के कई रूप देखने को मिले. एक बार पार्टी को सम्बोधित करते हुए इमोशनल हो गए थे. मुलायम सिंह यादव को हमेशा नेता जी कहते देखे गए . जब मुख्यमंत्री थे उस दौरान कई बार मुलायम सिंह यादव ने उन्हें काम को लेकर डांट भी लगाई लेकिन अखिलेश ने उसे सहजता से स्वीकार्य किया. आइये जानते हैं कैसे अखिलेश यादव मुलायम से भी ज्यादा ‘मुलायम’ होते गये.

लॉकडाउन एक्सक्लूसिव : राजस्थान का यह विधायक इस बार नहीं भर पाया अपने गाड़ी की क़िस्त, अपनी अंगूठी तक CM कोष में कर दिया दान

आजमगढ़ के सांसद अखिलेश यादव कभी भी विधान सभा का चुनाव नहीं लड़े. राजनीति में सीधे सांसद बनकर आये थे. दिल्ली पहुच गए थे. लेकिन उन्हें राजनीति करनी थी यूपी की इसलिए उनकी नजरें लखनऊ की तरफ थी. वो दौर आया. अखिलेश यादव उत्तर प्रदेश की कमान सम्भालने के लिए कमर कस ली. और वर्ष 2012 के विधान सभा चुनाव में इन्होने खूब साइकिल चलाई और ये साइकिल पर सवार हो गए.

LOCKDOWN : ‘लालू की रसोई’ से बिहार में सैकड़ों लोगों को मिल रही वेज बिरियानी

सपा की सरकार बनी और मुखिया अखिलेश यादव बने. चाचाओं के बीच में यह युवा नेता सीएम बन चुका था. इस पांच साल के दौरान कई बार चर्चा में आये और कई बार बिना चर्चा के रहे. मगर अखिलेश ने 2016 में वो कर दिखाया जो शायद किसी को उम्मीद रही हो. सपा में मुलायम सिंह यादव्, शिवपाल सिंह यादव हासिये पर आ गये. और अखिलेश यादव प्रदेश अध्यक्ष से राष्ट्रीय अध्यक्ष बन गये.

न्यू इंडिया नहीं नया भारत, स्मार्ट गांव और नया जीवन चाहिए !

इन्हें मुलायम और सरल इस लिए भी कहा जाता है कि क्योंकि इन्होने गढ़बंधन लाभ के लिए नहीं किया था. दोनों बार के गठबंधन में नुकसान सपा को हुआ. मगर अखिलेश ने किसी पर कोई आरोप नहीं लगाया. बसपा और कांग्रेस के साथ गठबंधन करने के बाद कोई पछतावा भी नहीं दिखा. मगर एक बात साफ़ रही कि अखिलेश बस मुलायम से भी ज्यादा मुलायम बनते गए. इनके जीवन के बहुत उदाहरण है जो यह बता सकते हैं कि अखिलेश यादव बहुत मुलायम हैं. और उन्होंने दिल से काम किया है.

यूपी के CM YOGI ने 20 अप्रैल से यूपी की स्वास्थ्य व्यवस्था, शिक्षा और कृषि पर लिया बड़ा निर्णय

अखिलेश यादव एक नजर में 

1 जुलाई 1973 (आयु 46) को उत्तर प्रदेश के इटावा में अखिलेश यादव का जन्म हुआ. शैक्षिक सम्बद्धता मैसूर विश्वविद्यालय से इंजीन्यरिंग स्नातक तथा सिडनी विश्वविद्यालय से पर्यावरणीय अभियांत्रिकी में परास्नातक. अदिति व टीना (पुत्री) और अर्जुन (पुत्र).


POLL TALK DESKhttps://polltalk.in/
पोल टॉक और PollTalk.In के सम्पादक संतोष कुमार पांडेय देश के कई शहरों में पत्रकारिता कर चुके हैं। ये शहर जो कार्यस्थल बने वाराणसी , लखनऊ, आगरा, देहरादून, नोएडा, जयपुर, बिहार, हैदराबाद, पानीपत, सतना में रहे हैं। इन संस्थानों में दी सेवाएं राजस्थान पत्रिका , दैनिक भास्कर, एग्रो भास्कर, हिन्दुस्थान, जनसन्देश न्यूज़ चैनल, जनसन्देश टाइम्स, ईटीवी भारत में कई वरिष्ठ पदों पर कार्य किये. राजनीति की सही जानकारी और कुछ रोचक इन्टरव्यू दिखाना प्राथमिकता है।

Leave a Reply

Must Read

मणिपाल में मीडिया और जनसंचार में बनाएं अपना करियर

पत्रकारिता और जनसंचार के क्षेत्र में कई नई स्वर्णिम संभावनाएं पैनडैमिक के दौरान विश्वस्तर पर हेल्थ कम्युनिकेशन...

मीडिया सच दिखाए, मगर डराए नहीं : प्रो. भानावत

एमजेआरपी यूनिवर्सिटी की मानसिक स्वास्थ्य पर मीडिया का प्रभाव विषयक वेबिनार पोल टॉक नेटवर्क | जयपुर प्रोफेसर डॉ. संजीव भानावत ने कहा...

डिजिटल स्टैम्प से पकड़े जा रहे है अपराधी : प्रो त्रिवेणी सिंह

155260 पर ऑनलाइन फ्रॉड की तुरंत करें शिकायत अमित दुबे ने साइबर अपराध से बचने के बताएं...

YOUTH कांग्रेस कमेटी का विस्तार, आयुष भारद्वाज बने पहले संगठन महासचिव

युवा कांग्रेस की प्रदेश कार्यकारिणी का किया गया विस्तार राष्ट्रीय अध्यक्ष श्रीनिवास बीवी की अनुमति से हुआ...

“जन सहायता दिवस” के रूप में मनाया गया राहुल गाँधी का जन्मदिन

राजस्थान के सभी 33 जिलों में रक्तदान शिविर एवं राशन किट वितरण कार्यक्रम 1500 यूनिट रक्त एकत्रित...