Home जनसरोकार मीडिया शिक्षा के 100 वर्षों की यात्रा पर विशेषांक

मीडिया शिक्षा के 100 वर्षों की यात्रा पर विशेषांक


  • भारत में मीडिया शिक्षा के 100 वर्ष तथा मीडिया शिक्षा पर आलोचनात्मक लेखों का है संकलन 
  • विभिन्न प्रदेशों के मीडिया कर्मियों व शिक्षकों के योगदान की भी चर्चा 

पोल टॉक नेटवर्क | जयपुर 

जयपुर से प्रकाशित मीडिया जर्नल कम्युनिकेशन टुडे ने अपने रजत जयंती वर्ष के अवसर पर भारत में मीडिया शिक्षा की एक सदी की यात्रा पर दो महत्वपूर्ण विशेषांकों का प्रकाशन किया है। ‘भारत में मीडिया शिक्षा के 100 वर्षों’ पर केंद्रित इन विशेषांकों में मीडिया शिक्षा की एक शताब्दी का लेखा-जोखा और उससे जुड़े विभिन्न मुद्दों के संदर्भ में शोध परक जानकारी प्रकाशित की गई है।

जर्नल के संपादक प्रो. संजीव भानावत ने बताया कि इस जर्नल के जनवरी से मार्च व अप्रैल से जून के दो अंकों में भारत में मीडिया शिक्षा के 100 वर्ष तथा मीडिया शिक्षा पर आलोचनात्मक लेखों का संकलन किया गया है। लगभग 500 पृष्ठों ‌के इन दो विशेषांको में भारत के सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों के केंद्रीय तथा प्रादेशिक विश्वविद्यालयों के साथ-साथ निजी एवं डीम्ड विश्वविद्यालयों व संस्थानों में मीडिया शिक्षा की शुरुआत व उनके विकास का विस्तृत विवरण प्रकाशित किया गया है। इन अंकों में मीडिया शिक्षा के विकास में विभिन्न प्रदेशों के मीडिया कर्मियों व शिक्षकों के योगदान की भी चर्चा की गई है।

CCOMMUNICATION-TODAY
CCOMMUNICATION-TODAY

प्रो. भानावत के अनुसार विश्वविद्यालय स्तर पर मीडिया शिक्षा की आवश्यकता को भारत में लगभग एक सदी पहले ही महसूस कर लिया गया था। सामान्यतः यह माना जाता रहा है कि वर्ष 1920 में अदयार विश्वविद्यालय, चेन्नई में में डॉ एनी बेसेंट के प्रयत्नों से कला संकाय के अंतर्गत पत्रकारिता का पहला औपचारिक पाठ्यक्रम शुरू किया गया था। हालांकि,  तमिलनाडु सेंट्रल यूनिवर्सिटी के प्रो जी रविंद्रन का यह मानना है कि पत्रकारिता का पहला पाठ्यक्रम 1917 में नेशनल कॉलेज ऑफ कॉमर्स, नेशनल यूनिवर्सिटी चेन्नई में प्रारंभ किया गया था

उसके बाद उत्तर प्रदेश के वरिष्ठ पत्रकार रहम अली अल हाशमी ने अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय में पत्रकारिता पाठ्यक्रम के प्रभारी के रूप में इस विश्वविद्यालय में पत्रकारिता में डिप्लोमा पाठ्यक्रम प्रारंभ किया। उन्होंने भारतीय उपमहाद्वीप में पत्रकारिता पर पहली व्यावहारिक पुस्तक ‘फन- ए- सहाफत’ लिखी थी । ये प्रयास बहुत लंबे समय तक नहीं चल सके । व्यवस्थित रूप से पत्रकारिता का पाठ्यक्रम सन् 1941 में पंजाब विश्वविद्यालय, लाहौर में प्रो पीपी सिंह के प्रयत्नों से शुरू किया गया था।

प्रतिवर्ष 40 विद्यार्थियों के बैच के साथ स्नातकोत्तर स्तर का पाठ्यक्रम यहां प्रारंभ किया गया था। भारत विभाजन के साथ सन् 1947 में ‌इसका कैंप ऑफिस दिल्ली शिफ्ट हो गया था। प्रो पीपी सिंह ने अमेरिका और इंग्लैंड में पत्रकारिता की पढ़ाई की थी। आजादी के बाद यह विभाग कुछ समय तक दिल्ली में संचालित हुआ और उसके बाद सन 1962 में पंजाब विश्वविद्यालय,चंडीगढ़ में स्थानांतरित हो गया। इस प्रकार सन 2020 में भारत में मीडिया शिक्षा की एक सदी की यात्रा पूरी हो गई है।

प्रो भानावत के अनुसार कम्युनिकेशन टुडे ने अपने प्रकाशन के 25 वर्षों में कोविड-19 एवं मीडिया , मीडिया कर्मियों के लिए आचार संहिताओं का संकलन, इंटरप्ले बिटविन इलेक्ट्रॉनिक एवं प्रिंट मीडिया, भारत में मीडिया का परिदृश्य , पत्रकारिता एवं जनसंचार साहित्य संदर्भिका, विदर जर्नलिज्म एंड पीआर एज्युकेशन, ह्यूमन राइट्स एंड मीडिया आदि विषयों पर केंद्रित विभिन्न विशेषांकों का समय-समय पर प्रकाशन किया है । कम्युनिकेशन टुडे के अकादमिक योगदान पर महात्मा गांधी अंतरराष्ट्रीय हिंदी विश्वविद्यालय ,वर्धा और लुधियाना के कृषि विश्वविद्यालय में भी शोध कार्य किया गया है। पब्लिक रिलेशंस काउंसिल ऑफ इंडिया ने 2011 में इस पत्रिका को चंडीगढ़ में आयोजित अपनी अंतरराष्ट्रीय कांफ्रेंस में एक्सटर्नल मैगजीन कैटेगरी में गोल्डन अवार्ड से भी सम्मानित किया है।


POLL TALK DESKhttps://polltalk.in/
पोल टॉक और PollTalk.In के सम्पादक संतोष कुमार पांडेय देश के कई शहरों में पत्रकारिता कर चुके हैं। ये शहर जो कार्यस्थल बने वाराणसी , लखनऊ, आगरा, देहरादून, नोएडा, जयपुर, बिहार, हैदराबाद, पानीपत, सतना में रहे हैं। इन संस्थानों में दी सेवाएं राजस्थान पत्रिका , दैनिक भास्कर, एग्रो भास्कर, हिन्दुस्थान, जनसन्देश न्यूज़ चैनल, जनसन्देश टाइम्स, ईटीवी भारत में कई वरिष्ठ पदों पर कार्य किये. राजनीति की सही जानकारी और कुछ रोचक इन्टरव्यू दिखाना प्राथमिकता है।

Leave a Reply

Must Read

Uday Chauhan – Influencer | Entrepreneur

Uday completed his Engineering in 2020 He became an Influencer in 2015 POLL TALK NETWORK | DELHI  Uday Chauhan...

Environment Day : हरियाली क्रांति के लिए साथ आए पीपल बाबा और भाजपा नेता, आक्सीजन की कमी पूरी करने के लिए लगाए पौधे

विश्व पर्यावरण दिवस के अवसर पर शनिवार को नोएडा के सेक्टर 115 में पौधरोपण कार्यक्रम का आयोजन ...

पाक विस्थापितों के टीकाकरण का कार्य शीघ्र शुरू किया जाय : राजेन्द्र राठौड़

25 हजार से ज्यादा पाक विस्थापितों की आधार कार्ड व अन्य वैध दस्तावेजों का है आभाव राजस्थान...

महाराजा अग्रसेन में फैक्ट वेरिफिकेशन पर वर्कशॉप

'तथ्य सत्यापन' विषय पर निमिश कपूर द्वारा ऑनलाइन कार्यशाला का आयोजन हुआ पोल टॉक नेटवर्क | दिल्ली महाराजा अग्रसेन इंस्टीटूट ऑफ़ मैनेजमेंट...

कोविड से मृतक परिजनों को 2 लाख रुपये तक क्लेम दिलाने की मुहीम शुरू

राष्ट्रीय राष्ट्रवादी पार्टी नें शुरू किया निःशुल्क क्लेम पोर्टल, परिजन भरें फार्म अबतक ऐसी नहीं की थी...