Home अंदर की बात कोरोना : तबलीगियों ने बढ़ाई परेशानी, ट्रेन और बस से गये थे...

कोरोना : तबलीगियों ने बढ़ाई परेशानी, ट्रेन और बस से गये थे घर


गोरखपुर से प्रियेश शुक्ला की रिपोर्ट 

महराजगंज में कोरोना (Coronavirus) पाजिटिव मिले छह तब्लीगी जमाती (tabligi jammat), मरकज में शामिल होने के बाद दिल्ली से लौटते समय इनके गोरखपुर से होकर घर जाने की भी सूचना है ! 21 मार्च को 21 जमातियों का जत्था कामाख्या एक्सप्रेस से दिन में 2:40 बजे गोरखपुर रेलवे स्टेशन पर पहुंचा था। यहां से ये जमाती सवारी गाड़ी और रोडवेज से महराजगंज के लिए रवाना हुए थे. ऐसे जानकारी सामने आ रही है.

कोरोना अपडेट : महाराष्ट्र, गुजरात में सबसे अधिक मौत और ओडिशा , झारखण्ड में एक भी नहीं

जमातियों की यात्रा का विवरण सामने आने के बाद गोरखपुर जिला प्रशासन सकते में आ गया है। पाजिटिव पाए गए जमाती, रेलवे स्टेशन पर उतरने के बाद कहां-कहां गए थे और किस-किस से मिले थे, इसका पता लगाने के लिए पुलिस की कोविड-19 टीम को लगाया गया है। जमातियों के मोबाइल फोन काल डिटेल और टावर लोकेशन की मदद से पुलिस टीम छानबीन में जुटी है।

दिल्‍ली से ट्रेन से आये गोरखपुर ।

दिल्ली के निजामुद्दीन स्थित तब्लीगी जमात के मरकज में शामिल हुए लोगों में कई कोरोना पाजिटिव पाए गए हैं। देशभर में उनकी तलाश कर परीक्षण कराया जा रहा है। महराजगंज जिले से भी बड़ी संख्या में तब्लीगी जमात के लोग मरकज में शामिल होने गए थे। इनमें 21 जमातियों का जत्था दिल्ली से ट्रेन से लौटते समय गोरखपुर आया था। इस जत्थे के छह जमाती कोरोना पाजिटिव पाए गए हैं।

आरएसएस ने देशहित के लिए उठाया बड़ा कदम, जो अभी तक कभी नहीं हुआ

सीसीटीवी कैमरों की फुटेज खंगाल रही पुलिस

पाजिटिव पाए गए जमातियों की रेलवे स्टेशन से निकलने के बाद की गतिविधियों का पता लगाने के लिए पुलिस की कोविड-19 टीम स्टेशन परिसर और स्टेशन के बाहर लगे सीसी टीवी कैमरों की फुटेज खंगाल रही है। साथ ही उनके मोबाइल फोन का उस दिन की काल डिटेल और टावर लोकेशन भी निकलवाया गया है। पता लगाने का प्रयास किया जा रहा है कि रेलवे स्टेशन से बाहर निकलने के बाद उनकी गतिविधि क्या थी? किस-किस साधन से वे घर जाने के लिए रवाना हुए थे? जिस गाड़ी से वे महराजगंज गए थे, उसमें कितने लोग सवार थे? स्टेशन से बाहर आने के बाद वे किसी दुकान पर भी गए थे या महराजगंज जाने के लिए साधन पकड़ लिया था?

बड़ी खबर : कोरोना के 11 लाख से अधिक केस, मगर इन तीन देशों में हैं 5 लाख से अधिक मामले

गोरखपुर में रुका था पाजिटिव पाया गया एक जमाती !

कोरोना पाजिटिव पाए गए जमातियों में शामिल महराजगंज के कोल्हुई क्षेत्र का रहने वाला एक जमाती, रेलवे स्टेशन से बाहर आने के बाद डेढ़ घंटे तक गोरखपुर में रुका था। उसके मोबाइल फोन का टावर लोकेशन कोतवाली इलाके के अलीनगर में मिला है। इसको लेकर प्रशासनिक अमला खासा परेशान है। यह पता लगाने का प्रयास किया जा रहा है उक्त जमाती, डेढ़ घंटे तक गोरखपुर में क्यों रुका था और यदि अलीनगर गया था तो वहां किस-किस से मिला था। फोन से उससे संपर्क करने की कोशिश करने पर उसके बेटे ने अलीनगर में कोई रिश्तेदारी होने या किसी परिचित के रहने से इन्कार किया है। बताते हैं कि धर्मशाला बाजार से भी कभी-कभी मोबाइल फोन का टावर लोकेशन अलीनगर का पकड़ लेता है, लेकिन जमाती से बात होने के बाद ही स्पष्ट हो पाएगा कि वह अलीनगर गया था कि नहीं। इसकी तस्दीक करने के लिए गोरखपुर पुलिस, महराजगंज जिले के कोल्हुई थाने की पुलिस की मदद ले रही है।

इटली, फ़्रांस, स्पेन से बेहतर है यह छोटा सा गरीब देश, यहाँ कोरोना से एक भी मौत नहीं हुई

बस्ती का एक नमूना संदिग्ध ।

गोरखपुर मेडिकल कॉलेज स्थित क्षेत्रीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान केंद्र (आरएमआरसी) में रविवार को कोरोना से संबंधित कुल 39 जांच हुई जिसमें बस्ती का एक नमूना स्क्रीन पाजिटिव (संदिग्ध) आया। उसे दोबारा जांच में लगाया गया है। शेष निगेटिव हैं। शनिवार को हुई 85 जांच में बस्ती के दो नमूने पाजिटिव मिले थे, शेष निगेटिव थे। दो में से एक नमूना गोरखपुर के युवक का था, जो शहर का पहला कोरोना संक्रमित मामला है। कोरोना संक्रमित लोगों की संख्या बढऩे के साथ ही नमूनों के आने की संख्या में भी इजाफा हुआ है। आरएमआरसी के मीडिया प्रभारी डॉ. अशोक पांडेय ने बताया नमूनों की संख्या लगातार बढ़ रही है। इस दृष्टि से चार और लोगों को प्रशिक्षित कर दिया गया है। ताकि आने वाले नमूनों की जांच शीघ्र हो सके।

देश के ऊर्जा मंत्री इसलिए नहीं जला पाए एक भी दीपक और मोमबत्ती

शनिवार को हुई जांच 

महराजगंज– 41

बस्ती- 17

कुशीनगर- 05

गोरखपुर- 04

सिद्धार्थनगर– 07

अयोध्या- 11

रविवार को हुई जांच

बस्ती– 24

देवरिया– 14

आजमगढ़- 01


POLL TALK DESKhttps://polltalk.in/
पोल टॉक और PollTalk.In के सम्पादक संतोष कुमार पांडेय देश के कई शहरों में पत्रकारिता कर चुके हैं। ये शहर जो कार्यस्थल बने वाराणसी , लखनऊ, आगरा, देहरादून, नोएडा, जयपुर, बिहार, हैदराबाद, पानीपत, सतना में रहे हैं। इन संस्थानों में दी सेवाएं राजस्थान पत्रिका , दैनिक भास्कर, एग्रो भास्कर, हिन्दुस्थान, जनसन्देश न्यूज़ चैनल, जनसन्देश टाइम्स, ईटीवी भारत में कई वरिष्ठ पदों पर कार्य किये. राजनीति की सही जानकारी और कुछ रोचक इन्टरव्यू दिखाना प्राथमिकता है।

Leave a Reply

Must Read

कांग्रेस ने अनेकों घोटाले कर भारत के हित और साख को गिराया : डॉ. सतीश पूनियां

प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी भारत को आर्थिक उन्नति के साथ आत्मनिर्भर बना रहे, श्री मोदी के नेतृत्व में भारत विश्व...

गरीबों को न्याय दिलाने सड़क पर उतरे पुष्पेंद्र भारद्वाज, मंत्री से की मुलाकात

न्यू सांगानेर रोड को 200 फीट चौड़ा नहीं करने के लिए दिया ज्ञापन न्यू सांगानेर रोड व्यापार...

मणिपाल में मीडिया और जनसंचार में बनाएं अपना करियर

पत्रकारिता और जनसंचार के क्षेत्र में कई नई स्वर्णिम संभावनाएं पैनडैमिक के दौरान विश्वस्तर पर हेल्थ कम्युनिकेशन...

मीडिया सच दिखाए, मगर डराए नहीं : प्रो. भानावत

एमजेआरपी यूनिवर्सिटी की मानसिक स्वास्थ्य पर मीडिया का प्रभाव विषयक वेबिनार पोल टॉक नेटवर्क | जयपुर प्रोफेसर डॉ. संजीव भानावत ने कहा...

डिजिटल स्टैम्प से पकड़े जा रहे है अपराधी : प्रो त्रिवेणी सिंह

155260 पर ऑनलाइन फ्रॉड की तुरंत करें शिकायत अमित दुबे ने साइबर अपराध से बचने के बताएं...