Home राजनीति चुनाव BIHAR CHUNAV 2020 : अधिक सीटों के चक्कर में अपनी भी सीट...

BIHAR CHUNAV 2020 : अधिक सीटों के चक्कर में अपनी भी सीट नहीं बचा पाए कुशवाहा ! फिर उसी राह पर अड़े !


  • रालोसपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं उपेन्द्र कुशवाहा, कई बड़ी जिम्मेदारी निभा चुके हैं
  • इस बार महागठबंधन में हैं शामिल, वहां भी बढ़ गया है तनाव

संतोष कुमार पाण्डेय | सम्पादक

बिहार विधानसभा चुनाव 2020 (BIHAR VIDHAN SABHA CHUNAV 2020 ) को लेकर सभी दल मैदान में हैं. मगर इस बार बड़ी बात यह है कि अभी तक न तो सीट का बंटवारा हुआ और न ही चुनाव की डेट आई है. इसके पहले ही सभी दल अलग-अलग राह पर चल पड़े हैं. महागठबंधन हो या एनडीए (NDA) दोनों में खलबली मची है. आइये जानते हैं क्या स्थिति बनी हुई है. एनडीए में लोजपा (LJP) पूरी तरह से बगावत पर हैं.

सीएम योगी आदित्यनाथ की इस घोषणा से खुश हुए गोरखपुर के सांसद रवि किशन

एनडीए (NDA) में लोजपा ने यहाँ तक कह दिया है कि अगर उनकी बातें नहीं मानी गई तो वह अलग हो सकते हैं. वहीं महागठबंधन से पहले ही हम पार्टी के नेता और पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी बाहर जा चुके हैं. अब बारी है उपेंद्र कुशवाहा (Upendra Kushwaha) के बाहर जाने की. उपेंद्र कुशवाहा (Upendra Kushwaha ) की मांग है कि उनकी पार्टी को 41 सीट मिले. मगर उन्हें महागठबंधन में मात्र 12-15 सीट देने की बात हो रही है. वहीं राजद की तरफ से कहा गया है कि अगर रालोसपा बाहर जाना चाहती है तो चली जाय.

यूपी के बसपा सांसद रितेश पाण्डेय की विदेशी दुल्हन की बड़ी रोचक है कहानी

कुशवाहा हर बार बदल रहे हैं खेमा

जदयू से वर्ष 2010 में राज्यसभा पहुचंने वाले उपेन्द्र कुशवाहा ने वर्ष 2013 में अपना दल बना लिया. जिसका नाम है रालोसपा. वर्ष 2014 में उनकी पार्टी को बिहार में तीन लोक सभा की सीटें मिली और जदयू को मात्र दो सीट. यही से उपेन्द्र कुशवाहा जिद्दी से हो गये. बिहार में नेता प्रतिपक्ष रह चुके उपेन्द्र कुशवाहा (Upendra Kushwaha ) की नजर सीएम की कुर्सी पर पड़ गई. मगर सफलता की जगह नुक्सान होने लगा.

फिल्म इंडस्ट्री ही नहीं किसी भी इंडस्ट्री में महिलाओंं के साथ उत्पीड़न बर्दाश्त नहीं : रवि किशन

2014 में मोदी मंत्रिमंडल में उपेन्द्र कुशवाहा (Upendra Kushwaha) को केन्द्रीय मानव संसाधन राज्यमंत्री बनाया गया. लेकिन वर्ष 2015 के विधान सभा चुनाव में कुछ ख़ास नही हुआ. तीन सीटों पर जीत मिली. मगर वर्ष 2019 में उपेन्द्र कुशवाहा फिर महागठबंधन में चले गये. और सीट की मांग को लेकर अड़े रहे.

बिजली वाली राजनीति : यूपी के उन 8 जिलों में 24 घंटे बिजली मिलेगी जहां पर उपचुनाव होना है ?

इन्हें 5 सीटें मिली और जीत एक पर भी नहीं. अब फिर सीट के बंटवारे को लेकर उपेन्द्र कुशवाहा (Upendra Kushwaha) डटे है. लगता है इस बार फिर महागठबंधन से एनडीए (NDA) की ओर जाना चाहते हैं. मगर वहां पर पहले ही माझी और लोजपा ने संकट खडा किया है. मगर चीजें बदल रही है.


POLL TALK DESKhttps://polltalk.in/
पोल टॉक और PollTalk.In के सम्पादक संतोष कुमार पांडेय देश के कई शहरों में पत्रकारिता कर चुके हैं। ये शहर जो कार्यस्थल बने वाराणसी , लखनऊ, आगरा, देहरादून, नोएडा, जयपुर, बिहार, हैदराबाद, पानीपत, सतना में रहे हैं। इन संस्थानों में दी सेवाएं राजस्थान पत्रिका , दैनिक भास्कर, एग्रो भास्कर, हिन्दुस्थान, जनसन्देश न्यूज़ चैनल, जनसन्देश टाइम्स, ईटीवी भारत में कई वरिष्ठ पदों पर कार्य किये. राजनीति की सही जानकारी और कुछ रोचक इन्टरव्यू दिखाना प्राथमिकता है।

Leave a Reply

Must Read

मणिपाल में मीडिया और जनसंचार में बनाएं अपना करियर

पत्रकारिता और जनसंचार के क्षेत्र में कई नई स्वर्णिम संभावनाएं पैनडैमिक के दौरान विश्वस्तर पर हेल्थ कम्युनिकेशन...

मीडिया सच दिखाए, मगर डराए नहीं : प्रो. भानावत

एमजेआरपी यूनिवर्सिटी की मानसिक स्वास्थ्य पर मीडिया का प्रभाव विषयक वेबिनार पोल टॉक नेटवर्क | जयपुर प्रोफेसर डॉ. संजीव भानावत ने कहा...

डिजिटल स्टैम्प से पकड़े जा रहे है अपराधी : प्रो त्रिवेणी सिंह

155260 पर ऑनलाइन फ्रॉड की तुरंत करें शिकायत अमित दुबे ने साइबर अपराध से बचने के बताएं...

YOUTH कांग्रेस कमेटी का विस्तार, आयुष भारद्वाज बने पहले संगठन महासचिव

युवा कांग्रेस की प्रदेश कार्यकारिणी का किया गया विस्तार राष्ट्रीय अध्यक्ष श्रीनिवास बीवी की अनुमति से हुआ...

“जन सहायता दिवस” के रूप में मनाया गया राहुल गाँधी का जन्मदिन

राजस्थान के सभी 33 जिलों में रक्तदान शिविर एवं राशन किट वितरण कार्यक्रम 1500 यूनिट रक्त एकत्रित...