Home राजनीति से इतर LATEST UPDATE विकास दुबे एक निशान की वजह से पकड़ा गया ! मंदिर की...

विकास दुबे एक निशान की वजह से पकड़ा गया ! मंदिर की सुरक्षा अधिकारी ने सुनाई पूरी कहानी !


  • मंदिर में परिसर में वह खुलेआम घूम रहा था !
  • उसने बदल रखा था अपना हुलिया !
  • विकास दूबे पलता दिख रहा था और चश्मा भी पहना था 

पोलटॉक नेटवर्क | भोपाल

विकास दुबे ( vikasdubeyarrestedmahakalmandirujjain ) की कई दिनों से यूपी पुलिस को तलाश थी. लेकिन वो हाथ नहीं आ रहा था. जब उसकी गिरफ्तारी मध्यप्रदेश के उज्जैन से हुई तो कई सारे सवाल भी उठ रहे हैं. बताया जा रहा है कि इसने यहाँ (मन्दिर में ) भी चकमा देकर भागने का प्रयास किया. इसने मंदिर में क्या-क्या किया ? महाकाल मंदिर की सुरक्षा अधिकारी रूबी यादव ने ‘आजतक’ से कई बातों का खुलासा किया है. आइए जनाते हैं उन्होंने क्या बातें बताई है.

पोलटॉक विशेष : 40 साल पहले जब पूरा थाना ही शहीद हो गया था !

हुलिया समझने में हुई दिक्कत

विकास दुबे (vikas dubye)  की जो फोटो हर जगह थी उससे इसकी हुलिया मिल नहीं रही थी. यह चश्मा और मास्क भी पहन रखा था. जिससे मंदिर की सुरक्षा अधिकारी रूबी यादव को उसे समझ पाने में मुश्किल हुई.उन्होंने जैसा कि आजतक को बताया कि फिर मैंने अपने सिक्युरिटी गार्ड से फोटो भेजने के लिए कहा, जो फोटो मेरे पास आई, उसमें उसका हुलिया बदला हुआ था. उसने बाल छोटे करा रखे थे, चश्मा और मास्क लगा रखा था और वो दुबला लग रहा था. हुलिया देखकर उसकी पहचान कर पाना मुश्किल लग रहा था. मैंने अपनी टीम को वॉच करने को कहा जितनी देर में उसने दर्शन किए, उतनी देर में मैंने गूगल कर उसकी तस्वीर खंगाल ली. गूगल सर्च में वांटेड फोटो में उसके सिर पर चोट का निशान था. मेरे गार्ड ने जो फोटो भेजा, उसे फिर मैंने जूम करके देखा तो उसके माथे पर चोट का निशान था. इसके बाद मैं कन्फर्म हो गई कि ये विकास दुबे है, लेकिन मैंने ये बात अपनी टीम से शेयर नहीं की, ताकि कोई पैनिक ना हो.

Vikas Dubey अपराधी से ऐसे बन गया माननीय ! और 20 साल से कर रहा अपराध !

लगता है इसीलिए वो बचता गया

इसकी वर्तमान हुलिया और पुरानी तस्वीर में बड़ा अंतर दिख रहा है. लगता है इसीलिये वो बचता गया. लेकिन मध्यप्रदेश के उज्जैन मंदिर की सुरक्षा अधिकारी रूबी यादव् ने वीरता का परिचय दिया है. जिनकी वजह से आज विकास दुबे गिरफ्त में आया. और लोग राहत की सांस ले रहे हैं. वहीँ लोग पुलिस पर भी सवाल उठा रहे हैं. मगर अभी कई खुलासे बाकी है.


POLL TALK DESKhttps://polltalk.in/
पोल टॉक और PollTalk.In के सम्पादक संतोष कुमार पांडेय देश के कई शहरों में पत्रकारिता कर चुके हैं। ये शहर जो कार्यस्थल बने वाराणसी , लखनऊ, आगरा, देहरादून, नोएडा, जयपुर, बिहार, हैदराबाद, पानीपत, सतना में रहे हैं। इन संस्थानों में दी सेवाएं राजस्थान पत्रिका , दैनिक भास्कर, एग्रो भास्कर, हिन्दुस्थान, जनसन्देश न्यूज़ चैनल, जनसन्देश टाइम्स, ईटीवी भारत में कई वरिष्ठ पदों पर कार्य किये. राजनीति की सही जानकारी और कुछ रोचक इन्टरव्यू दिखाना प्राथमिकता है।

Leave a Reply

Must Read

कांग्रेस ने अनेकों घोटाले कर भारत के हित और साख को गिराया : डॉ. सतीश पूनियां

प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी भारत को आर्थिक उन्नति के साथ आत्मनिर्भर बना रहे, श्री मोदी के नेतृत्व में भारत विश्व...

गरीबों को न्याय दिलाने सड़क पर उतरे पुष्पेंद्र भारद्वाज, मंत्री से की मुलाकात

न्यू सांगानेर रोड को 200 फीट चौड़ा नहीं करने के लिए दिया ज्ञापन न्यू सांगानेर रोड व्यापार...

मणिपाल में मीडिया और जनसंचार में बनाएं अपना करियर

पत्रकारिता और जनसंचार के क्षेत्र में कई नई स्वर्णिम संभावनाएं पैनडैमिक के दौरान विश्वस्तर पर हेल्थ कम्युनिकेशन...

मीडिया सच दिखाए, मगर डराए नहीं : प्रो. भानावत

एमजेआरपी यूनिवर्सिटी की मानसिक स्वास्थ्य पर मीडिया का प्रभाव विषयक वेबिनार पोल टॉक नेटवर्क | जयपुर प्रोफेसर डॉ. संजीव भानावत ने कहा...

डिजिटल स्टैम्प से पकड़े जा रहे है अपराधी : प्रो त्रिवेणी सिंह

155260 पर ऑनलाइन फ्रॉड की तुरंत करें शिकायत अमित दुबे ने साइबर अपराध से बचने के बताएं...