महाराजा अग्रसेन इंस्टीट्यूट में वर्चुअल दीक्षांत समारोह कोनवोमेम्स-2020 आयोजित

महाराजा अग्रसेन इंस्टिट्यूट ऑफ़ मैनेजमेंट स्टडीज में वार्षिक दीक्षांत समारोह, कोनवोमेम्स-2020 का आयोजन किया गया।

0
620
अध्यक्ष डॉ. नंदकिशोर गर्ग, महाराजा अग्रसेन इंस्टिट्यूट ऑफ़ मैनेजमेंट स्टडीज
अध्यक्ष डॉ. नंदकिशोर गर्ग, महाराजा अग्रसेन इंस्टिट्यूट ऑफ़ मैनेजमेंट स्टडीज

पोल टॉक नेटवर्क |  नयी दिल्ली 

महाराजा अग्रसेन इंस्टिट्यूट ऑफ़ मैनेजमेंट स्टडीज में वार्षिक दीक्षांत समारोह, कोनवोमेम्स-2020 का आयोजन किया गया। इस अवसर पर बीबीए, बी.कॉम और बीजेएमसी के 500 छात्रों को स्नातक की डिग्री प्रदान की गयीं! समारोह में मुख्य अतिथि विश्वविद्यालय अनुदान आयोग के पूर्व अध्यक्ष प्रो. वेदप्रकाश ने अपने संबोधन में कार्य के प्रति जुनून और नैतिकता की आवश्यकता पर बल दिया।

उन्होंने कहा कि जीवन में कोई शार्टकट नहीं होता। दुनिया के महान लोगों का जीवन असफलताओं से होकर गुजरा है। निरंतर प्रयास ही सफलता तक ले जाता है, इसलिए धैर्यपूर्वक सबको देख-सुनकर ही अच्छा सीखा जा सकता है। विश्व प्रतिभा की क़द्र करता है लेकिन पुरस्कार चरित्र को देता है । संस्थान के संस्थापक अध्यक्ष डॉ. नंदकिशोर गर्ग ने अपने संबोधन में कहा कि औपचारिक शिक्षा के साथ ही जीवन की शिक्षा भी आवश्यक है। चरित्र के बिना शिक्षा अधूरी है । आप कहीं भी हों, चाहे कुछ भी करें, कभी भी अपने भीतर की प्रतिभा पर विश्वास करना बंद न करें, भारतीयता आपके भीतर रहे और राष्ट्रहित में कार्य करते रहें।

कार्यकारी अध्यक्ष एसपी अग्रवाल ने अपने संदेश में छात्रों को प्रतियोगी दुनिया के लिए खुद को तैयार करने की बात कही। उन्होंने आगे कहा कि असफलता से हताश होने की नहीं, बल्कि सबक लेने की आवश्यकता है। इस अवसर पर दीक्षांत समारोह स्मारिका और अर्थशास्त्र विभाग की शोध पत्रिका ‘इकोनॉमिक जर्नल’ का भी लोकार्पण हुआ।

कार्यक्रम में मेट्स के अध्यक्ष विनीत कुमार गुप्ता, उपाध्यक्ष जगदीश मित्तल , महासचिव टी आर गर्ग और सचिव रजनीश गुप्ता उपस्थित रहें| आयोजन डॉ. एस.के. गर्ग, डायरेक्टर जनरल, मेम्स एवं प्रो.जी.पी.गोविल, सलाहकार, मेट्स और डॉ. रवि कुमार गुप्ता, निदेशक के मार्गदर्शन में किया गया था। कार्यक्रम के समापन पर संस्थान के निदेशक डॉ. रवि कुमार गुप्ता ने अतिथियों व आयोजकों के प्रति आभार व्यक्त किया और छात्रों को उनके उज्ज्वल भविष्य की शुभकामना दी |


Leave a Reply