Home राजनीति से इतर गांधी जी ने जो जिया वही कहा और वही लिखा भी है...

गांधी जी ने जो जिया वही कहा और वही लिखा भी है : डॉ मनोज मिश्रा


  • समकालीन समय में गांधी की पत्रकारिता की प्रासंगिकता विषयक राष्ट्रीय वेबिनार का आयोजन

पोल टॉक नेटवर्क | जौनपुर

जनसंचार की प्रख्यात शोध पत्रिका कम्युनिकेशन टुडे के तत्वावधान में आयोजित समकालीन समय में गांधी की पत्रकारिता की प्रासंगिकता विषयक राष्ट्रीय वेबिनार में बतौर मुख्य वक्ता वीर बहादुर सिंह पूर्वांचल विश्वविद्यालय के जनसंचार विभाग के अध्यक्ष डॉ. मनोज मिश्र ने कहा कि महात्मा गांधीजी ने जो जिया वही कहा और वही लिखा। वे स्वयं में दर्शन थे लेकिन उन्होंने कभी अपने आप को दार्शनिक नही माना।

LOCKDOWN से पर्यटन क्षेत्र बहुत प्रभावित हुआ, पुनर्जीवित करने को हो प्रयास : एचसी पुरोहित

उनका व्यक्तित्व इतना चुम्बकीय था कि लोग उनसे सहज ही जुड़ जाया करते थे। गांधी जी ने समाचार पत्रों के जिन तीन उद्देश्यों की व्याख्या की वे सर्वकालिक हैं। उन्होंने पत्रकारिता के शाश्वत स्थाई मूल्यों सत्य, अन्याय का विरोध, सामाजिक सरोकार, राष्ट्रप्रेम और जनकल्याण का सदा प्रतिपादन किया। उन्होंने आज की युवा पीढ़ी से अपील की कि गांधी जी के विचारों और उनके जनसामान्य के प्रतिभाव को आत्मसात कर अपना भविष्य मङ्गलमय करें। उन्होंने कहा कि वर्तमान दौर में भी उनके द्वारा बताए गए सत्य और अहिंसा के सूत्र से सब कुछ हासिल किया जा सकता है.

शिक्षा आन्दोलन : आनलाइन पढ़ाई का 60 फीसद अभिभावकों ने किया बायकाट, सभी ने किया समर्थन

इस वेबिनार में आल इंडिया रेडियो (air) पटना की समाचार संपादक डॉ. सविता पारीक ने कहा कि महात्मा गाँधी की पत्रकारिता में जनसेवा निहित थी। उन्होंने पत्रकारिता में सदैव जनहित को सर्वोपरि रखा। विशिष्ट वक्ता फ़क़ीर मोहन विश्वविद्यालय उड़ीसा में जनसंचार विभाग की सहायक प्रोफेसर डॉ स्मिति पाढ़ी ने कहा कि महात्मा ग़ांधी के पास समाज के हर वर्ग से संचार करने की कला थी। उन्होंने इसी संचार कौशल से समाज के अंतिम व्यक्ति को अपने से जोड़ लिया था। वह अपने जीवन में सदा कौशल का सार्थक प्रयोग करते रहे।

किसान हितैषी विधेयक को लेकर कांग्रेस किसानों को बरगलाने का जो कुत्सित प्रयास कर रही : राजेन्द्र राठौड़

आयोजन सचिव एवं राजकीय पीजी कालेज मेरठ में अंग्रेजी विभाग की सहायक प्रोफेसर डॉ उषा साहनी ने सरस्वती वंदना और अतिथियों के स्वागत से वेबिनार की शुरुआत की। वेबिनार संयोजक तथा सेंटर फॉर मास कम्युनिकेशन राजस्थान विश्वविद्यालय,जयपुर के पूर्व अध्यक्ष प्रोफेसर डॉ. संजीव भानावत ने विषय प्रवर्तन किया। वेबिनार में देश के विभिन्न क्षेत्रों से जनसंचार विभाग के शिक्षक, शोधार्थी एवं विद्यार्थी शामिल रहे।

BIHAR CHUNAV 2020 : GROUND REPORT-बेनीपट्टी में बदला-बदला सा है चुनावी समीकरण


POLL TALK DESKhttps://polltalk.in/
पोल टॉक और PollTalk.In के सम्पादक संतोष कुमार पांडेय देश के कई शहरों में पत्रकारिता कर चुके हैं। ये शहर जो कार्यस्थल बने वाराणसी , लखनऊ, आगरा, देहरादून, नोएडा, जयपुर, बिहार, हैदराबाद, पानीपत, सतना में रहे हैं। इन संस्थानों में दी सेवाएं राजस्थान पत्रिका , दैनिक भास्कर, एग्रो भास्कर, हिन्दुस्थान, जनसन्देश न्यूज़ चैनल, जनसन्देश टाइम्स, ईटीवी भारत में कई वरिष्ठ पदों पर कार्य किये. राजनीति की सही जानकारी और कुछ रोचक इन्टरव्यू दिखाना प्राथमिकता है।

Leave a Reply

Must Read

मणिपाल में मीडिया और जनसंचार में बनाएं अपना करियर

पत्रकारिता और जनसंचार के क्षेत्र में कई नई स्वर्णिम संभावनाएं पैनडैमिक के दौरान विश्वस्तर पर हेल्थ कम्युनिकेशन...

मीडिया सच दिखाए, मगर डराए नहीं : प्रो. भानावत

एमजेआरपी यूनिवर्सिटी की मानसिक स्वास्थ्य पर मीडिया का प्रभाव विषयक वेबिनार पोल टॉक नेटवर्क | जयपुर प्रोफेसर डॉ. संजीव भानावत ने कहा...

डिजिटल स्टैम्प से पकड़े जा रहे है अपराधी : प्रो त्रिवेणी सिंह

155260 पर ऑनलाइन फ्रॉड की तुरंत करें शिकायत अमित दुबे ने साइबर अपराध से बचने के बताएं...

YOUTH कांग्रेस कमेटी का विस्तार, आयुष भारद्वाज बने पहले संगठन महासचिव

युवा कांग्रेस की प्रदेश कार्यकारिणी का किया गया विस्तार राष्ट्रीय अध्यक्ष श्रीनिवास बीवी की अनुमति से हुआ...

“जन सहायता दिवस” के रूप में मनाया गया राहुल गाँधी का जन्मदिन

राजस्थान के सभी 33 जिलों में रक्तदान शिविर एवं राशन किट वितरण कार्यक्रम 1500 यूनिट रक्त एकत्रित...