WHO IS ASHOK GEHLOT: अशोक गहलोत कैसे बन गए राजनीति के ‘जादूगर’ ?

जब अशोक गहलोत को मुख्यमंत्री पद से हटाने की बात हुई तो उस समय भी सचिन पायलट ( SACHIN PILOT) को किनारे कर दिया गया

0
107
CM ASHOK GEHLOT
सीएम अशोक गहलोत, राजस्थान

  • हमेशा सत्ता में और सत्ता के पास रहने वाले अकेले नेता
  • केंद्र से लेकर राज्य तक बने रहे प्रमुख पदों पर

अंजलि सोनी | जयपुर

WHO IS ASHOK GEHLOT: अशोक गहलोत ( ASHOK GEHLOT) राजस्थान की राजनीति में हमेशा टिके रहे। इसके पहले केंद्र में भी मंत्री रहे. इंदिरा गाँधी (EX PM INDIA Indira Gandhi ) से लेकर राहुल गाँधी तक इनके अच्छे संबंध बने रहे. सोनिया गाँधी (SONIA GANDHI ) और प्रियंका गाँधी (PRIYANKA GANDHI) की भी लिस्ट में ये बेहतर बने रहे। राहुल गाँधी (RAHUL GANDHI) से भी बेहर सम्बन्ध रहे. जब अशोक गहलोत को मुख्यमंत्री पद से हटाने की बात हुई तो उस समय भी सचिन पायलट ( SACHIN PILOT) को किनारे कर दिया गया लेकिन अशोक गहलोत की कुर्सी सुरक्षित रही. इसीलिए लोग कहते है कि अशोक गहलोत राजनीति के असली जादूगर हैं. आइये पढ़िए ये ख़ास रिपोर्ट |

राजस्थान के मुख्यमंत्री के रूप में अशोक गहलोत ने तीन बार काम किया है. पहली बार 1998 से 2003, दूसरी बार 2008 से 2013 और फिर मोदी राज में भी 2018 में तीसरी बार राजस्थान के मुख्यमंत्री बने. गहलोत ने केंद्र सरकार में कई बार केंद्रीय मंत्री भी रहे हैं। वे पहली बार 1980 में जोधपुर संसदीय क्षेत्र से 7वीं लोकसभा के लिए चुने गए। उन्होंने 8वीं, 10वीं, 11वीं और 12वीं लोकसभा में जोधपुर के संसदीय क्षेत्र का प्रतिनिधित्व किया। वर्ष 1999 में सरदारपुरा सीट (जोधपुर) विधानसभा क्षेत्र से विधायक चुने गए।

नाम – अशोक गहलोत , उम्र – 71 वर्ष। जन्म तारीख -3 मई 1951। जन्म स्थान – महामंदिर, जोधपुर, भारत । गृह नगर – महामंदिर, जोधपुर, भारत। शिक्षा – एलएलबी ,बीएससी , एमए (अर्थशास्त्र) । कॉलेज – जोधपुर विश्वविद्यालय, राजस्थान । राशि – वृषभ । धर्म – हिन्दू। जाति – पिछड़ा ‘माली’ (माली) समुदाय (ओबीसी) । नागरिकता – भारतीय । वजन – 75 किग्रा । लंबाई – 5 फ़ीट 7 इंच । आँखों का रंग – काला। बालो का रंग -सफ़ेद एवं काला । व्यवसाय- छात्र राजनीति, राजनीतिक और सामाजिक कार्यकर्ता। राजनीतिक दल – भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस । वैवाहिक स्थिति – विवाहित । विवाह की तारीख – 27 नवंबर, 1977। कुल संपत्ति – ₹6.5 करोड़ (2018 के अनुसार) | पिता का नाम लक्ष्मण सिंह गहलोत |

राजनीति में बना लिया ‘घर’

राजनीति में आने से पहले गहलोत डॉक्टर बनना चाहते थे और उन्होंने एक मेडिकल कॉलेज में दाखिला भी ले लिया था, जिसे उन्होंने बाद में छोड़ दिया। सरदारपुरा (जोधपुर) विधानसभा क्षेत्र से निर्वाचित होने के बाद फरवरी 1999 में वे 11वीं राजस्थान विधानसभा के सदस्य बने। वह राज्य के लोगों के बीच लोकप्रिय थे और 2003, 2008, 2013 में उसी निर्वाचन क्षेत्र से राजस्थान विधानसभा के लिए चुने गए थे, और 11/12/2018 को 15 वीं राजस्थान विधानसभा के लिए सरदारपुरा विधानसभा क्षेत्र से फिर से चुने गए थे।


Leave a Reply