RAJASTHAN POLITICS : राजस्थान में ‘BJP’ पर घनश्याम पड़े भारी, कौन हैं तिवाड़ी ?

अब सुगबुगाहट तेज है कि वसुन्धरा के घोर विरोधी को राज्यसभा (RAJYASABHA ) भेजकर भाजपा ने ये क्या संकेत दिया है ? कई तरह की बातें हो रही है। पढ़िए ये रिपोर्ट |

0
127
Ghanshyam Tiwari
Ghanshyam Tiwari

  • मोदी, शाह और वसुंधरा का तिवाड़ी कर चुके हैं विरोध
  • विधान सभा चुनाव से पहले घनश्याम को मिला बड़ा पद

संतोष कुमार पांडेय | जयपुर

राजस्थान (Rajasthan) में घनश्याम तिवाड़ी (Ghanshyam Tiwari) का नाम लेते ही एक बगावती नेता की छवि सामने आती है. जो अपनी ही सरकार और नेताओं का विधायक रहते विरोध करते रहे हैं. वसुंधरा राजे सिंधिया (VASUNDHARA RAJE) के मुख्यमंत्री रहते हुए तिवाड़ी ने खुलकर विरोध किया। भाजपा (BJP ) में जब मोदी युग (MODI YUG ) की शुरुआत हुई तो घनश्याम (Ghanshyam Tiwari) तिवाड़ी पार्टी में किनारे हो गए. वर्ष 2018 के विधानसभा चुनाव में अपनी पुरानी सीट सांगानेर (SANGANER ) से मैदान में उतर गए लेकिन दल के रूप में दीनदयाल वाहिनी संगठन के बैनर तले भारत वाहिनी पार्टी का गठन किया.

भाजपा और कांग्रेस के सामने तिवाड़ी कमजोर पड़ गए। घनश्याम तिवाड़ी को इतनी बुरी तरह हार मिलेगी उन्हें अंदाजा भी नहीं था. तिवाड़ी सांगानेर (SANGANER ) की अपनी सीट को खो दिए। इसके बाद लोकसभा चुनाव में भी भाजपा के खिलाफ बगावत जारी रही. वर्ष 2020 में घनश्याम तिवाड़ी भाजपा में लौटकर आ गए. यहीं से तिवाड़ी को लेकर तमाम चर्चाएं शुरू हो गई. अब सुगबुगाहट तेज है कि वसुन्धरा के घोर विरोधी को राज्यसभा (RAJYASABHA ) भेजकर भाजपा ने ये क्या संकेत दिया है ? कई तरह की बातें हो रही है। पढ़िए ये रिपोर्ट |

एक नजर घनश्याम तिवाड़ी पर

घनश्याम तिवाड़ी (Ghanshyam Tiwari) का जन्म 19 दिंसबर 1947 को राजस्थान के सीकर जिले में हुआ. स्नातक के दौरान इन्होने श्रीकल्याण संस्कृत कॉलेज सीकर में छात्र राजनीति में हाथ आजमाया। स्नातक के बाद ये पढ़ाई के लिए जयपुर आ गये. यही से कानून की पढ़ाई की. घनश्याम (Ghanshyam Tiwari) अखिल भारतीय विधार्थी परिषद के उपाध्यक्ष भी रहे. इसके बाद तिवाड़ी ने सीकर विधान सभा सीट से 1980 में जीत दर्ज किया। इसके बाद 1985 में भी इसी सीट से विधायक बने.

घनश्याम (Ghanshyam Tiwari) को राजस्थान में भाजपा के संस्थापक सदस्यों में से एक माना जाता है। भैरोंसिंह शेखावत की सरकार में तिवाड़ी राजस्थान के ऊर्जा मंत्री रहे. वसुंधरा की सरकार में शिक्षा मंत्री भी रहे। शिक्षामंत्री रहते इनकी बहुत तारीफ हुई. लेकिन वसुंधरा के दूसरे कार्यकाल में इन्हे तरजीह नहीं मिली। और यही से बगावत की शुरुआत हुई.

यहाँ से रहे विधायक

विधान सभा           समय
सीकर (Sikar) -1980-1985
सीकर (Sikar) -1985-1989
चोमू (Chomu) -1993-1998
सांगानेर (Sanganer)-2003-2008
सांगानेर (Sanganer) -2008-2013
सांगानेर (Sanganer) – 2013-2018

 

 

 


Leave a Reply